International Journal of Advanced Educational Research

International Journal of Advanced Educational Research


International Journal of Advanced Educational Research
International Journal of Advanced Educational Research
Vol. 6, Issue 1 (2021)

भारत में मादक द्रव्य औषधि का बढ़ता उपयोग एवं एन डी.पी.एस द्वारा इसकी रोकथाम


डाॅ. अनूप राजोरिया

दवाओं के रूप में दवाओं का उपयोग बीमार लोगों की मदद करने के लिए है, लेकिन नशीली दवाओं के दुरूपयोग में, जो लोग अपने मस्तिष्क के कार्य को हानिकारक और खतरनाक तरीकों से बदलने के लिए दवाओं का उपयोग करते है। ड्रग का उपयोग अब आम आदमी के लिए उभरता हुआ स्वास्थ्य के लिए खतरा बन गया है। जो आबादी के विस्फोट के साथ देश मे बढ रहा है। नशीली दवा के दुरूपयोग का अर्थ है दवा का कोई भी उपयोग जो उपयोगकर्ता को अन्य लोगो के लिए शारीरिक, मनोवैज्ञानिक, कानुनी या सामाजिक नुकसान का कारण बनाता है जो दवा उपयोगकर्ता के व्यवहार से प्रभावित होते है। भारत मे खेती, उत्पादन और दवाओ के उपयोग का एक लम्बे समय से समृद्व इतिहास रहा है, विशेष रूप से परंपरागत और स्थानीय रूप से उत्पादित पौधो पर आधारित अफीम और कैनाबीस जैसी प्राकृतिक दवाओ के पुराने उपयोग। वर्तमान लेख मे, नशीली दवाओ के दुरूपयोग के ऐतिहासिक पहलू, नशीली दवाओ के दुरूपयोग और अवैध तस्करी मे मौजुदा रूझान, नशीली दवाओ के दुरूपयोग के जोखिम कारक और युवाओ की भागीदारी, उपयोग करने के लिए निवारक उपायो पर चर्चा की गई थी।
नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्राॅपिक सबस्टेंस एक्ट को आम तौर पर दुव्र्यवहार की दवाओ को नियंत्रित करने और इसके उपयोग,अपव्यय, वितरण, निर्माण और दुरूपयोग के पदार्थ के व्यापार को प्रतिबंधित करने के उद्देश्य से एन.डी.पी.एस. अधिनियम के रूप मे भी जाना जाता है। नारकोटिक दवाएं वे है जो नींद पैदा करती है जबकि मनोवैज्ञानिक पदार्थो में व्यक्ति के दिमाग को बदलने की क्षमता होती है। एन.डी.पी.एस. अधिनियम 14 नवम्बर 1985 को भारत की संसद द्वारा अस्तित्व में आया था। हालांकि दवाओ के अभ्यास मे इन प्रकार की दवाओं का महत्व है। इस प्रकार, इस अधिनियम में कैनाबिस, पोस्पी, या कोका पौधो की खेती और औषधीय प्रथाओ से निपटने वाले किसी भी मनोवैज्ञानिक पदार्थो के निर्माण के प्रावधान भी हे। इस अधिनियम का मुख्य एजेंडा इस तरह के नशीले पदार्थो और मनोवैज्ञानिक पदार्थो के निर्माण, कब्जे, बिक्री और परिवहन पर नियंत्रण रखना है। यह अधिनियम लगभग 200 मनोविज्ञान पदार्थो पर प्रतिबंध लगता है जिसके परिणामस्वरूप इन पर दवाओं पर व्यक्तिगत रूप में किसी भी चलने के लिए काउंटर पर उपलब्ध नहीं है। ये दवाएं केवल बिक्री पर होती है जब इसके लिए पर्चे उपलब्ध होता है। इस कानून के उल्लंघन के परिणामस्वरूप सख्त कारावास या जुर्माना या दोनो शामिल हो सकते है दंड की डिग्री इस मामले की कठोरता पर निर्भर है। यदि दवाओ का उपयोग व्यक्तिगत उपयोग के लिए किया जाता है तो सजा कम हो सकती है। हालांकि कानून की स्थापना के बाद से, इसे बार-बार संशोधित किया गया है। लेकिन सिंथेटिक दवाओ और सडक दवाओ और डिजाइनर दवाओ से संबधित मुद्दो की उपलब्धता के कारण, दुरूपयोग के पदार्थ की प्रकृति वाले नई दवाओ से निपटने मे समस्या एक कठिन काम है। एन.डी.पी.एस. के अलावा इस दवा व्यापार मे उपयोगकर्ताओ, ड्रग पेडलर और हार्ड कोर अपराधियो के बीच अंतर करने की भी कमी है। वर्तमानअध्ययन एन.डी.पी.एस. अधिनियम और इसकी योग्यता पर एक सिंहावलोकन है।
Download  |  Pages : 18-21
How to cite this article:
डाॅ. अनूप राजोरिया. भारत में मादक द्रव्य औषधि का बढ़ता उपयोग एवं एन डी.पी.एस द्वारा इसकी रोकथाम. International Journal of Advanced Educational Research, Volume 6, Issue 1, 2021, Pages 18-21
International Journal of Advanced Educational Research